11 thyroid symptoms in hindi | थायराइड के लक्षण

पुरुषों में थायराइड के लक्षण (thyroid symptoms in men)

थायराइड गर्दन के सामने तितली के आकार की ग्रंथि होती है। यह थायराइड हार्मोन को स्रावित करता है, जो शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों को विनियमित करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। जबकि पुरुषों और महिलाओं दोनों को थायराइड की समस्या हो सकती है,  उनके बीच लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। इस ब्लॉग पोस्ट में हम पुरुषों में थायराइड की समस्याओं के कुछ प्रमुख लक्षणों के बारे में जानेंगे। साथ ही गले में थायराइड के लक्षण की अधिक जानकारी के लिए पढ़ें।

1. थायराइड के लक्षण और उपचार (Thyroid symptoms and treatment)

2. थायराइड के प्रकार (types of thyroid in Hindi)

थायरॉइड के निमलिखित दो प्रकार है हाइपरथायराइडिज्म और हाइपोथायराइडिज्म।

3. थायराइड क्या है पुरुषों में कैसे होता है? (What is thyroid, how does it happen in men in Hindi?)

पुरुषों में, थायरॉइड ग्रंथि एडम के सेब के ठीक नीचे गर्दन में स्थित एक छोटी, तितली के आकार की ग्रंथि होती है। यह अंतःस्रावी तंत्र का एक अनिवार्य हिस्सा है, जो हार्मोन पैदा करता है जो शरीर में चयापचय, हृदय गति और अन्य महत्वपूर्ण कार्यों को नियंत्रित करता है।

थायरॉयड ग्रंथि दो मुख्य हार्मोन उत्पन्न करती है: थायरोक्सिन (जिसे टी4 भी कहा जाता है) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (जिसे टी3 भी कहा जाता है)। ये हार्मोन शरीर के चयापचय को रेगुलेटर करने में मदद करते हैं, इस प्रक्रिया द्वारा शरीर भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करता है। थायरॉयड ग्रंथि भी कैल्सीटोनिन का उत्पादन करती है, यह हार्मोन जो शरीर में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

पुरुषों में, महिलाओं की तरह, थायरॉयड ग्रंथि कभी-कभी ज्यादा सक्रिय या कम सक्रिय हो सकती है, जिससे शरीर में चयापचय और अन्य कार्यों में समस्या हो सकती है। उदाहरण के लिए, एक ज्यादा सक्रिय थायरॉयड (जिसे हाइपरथायरायडिज्म भी कहा जाता है) वजन घटाने, तेजी से हृदय गति, कंपकंपी और चिंता जैसे लक्षण पैदा कर सकता है। एक अंडरएक्टिव थायरॉयड (जिसे हाइपोथायरायडिज्म भी कहा जाता है) थकान, वजन बढ़ना, शुष्क त्वचा और कब्ज जैसे लक्षण पैदा कर सकता है।

यदि आपको अपनी थायरॉयड ग्रंथि या अपने थायराइड हार्मोन के स्तर के बारे में कोई चिंता है, तो स्वास्थ्य डॉक्टर से परामर्श करना जरूरी है। वे किसी भी समस्या का हल करने में मदद कर सकते हैं और उचित उपचार की सलाह दे सकते हैं।

4. पुरुषों में थायराइड के प्रमुख लक्षण क्या हैं? (What are the main symptoms of thyroid in men in Hindi?)

पुरुषों में थायराइड के कई प्रमुख लक्षण हैं जो स्थिति का संकेत हो सकते हैं। इसमे शामिल है:

1. थकान और सामान्य सुस्ती

  • 2. वजन बढ़ना या अचानक वजन कम होना
  • 3. ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और स्मृति के साथ समस्याएं
  • 4. अवसाद या चिंता
  • 5. गंजापन
  • 6. हड्डियां कमजोर होना
  • 7. चिड़चिड़ापन और मूड स्विंग्स
  • 8. मुंह और बॉडी में सूजन
  • 9. पैरों में दर्द रहना
  • 10. मांसपेशियों में कमजोरी और जोड़ों का दर्द
  • 11. बांझपन या यौन क्रिया के साथ समस्याएं

यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव कर रहे हैं, तो जितनी जल्दी हो सके अपने डॉक्टर से बात करें। क्योंकि वे समस्या का निवारण करने और उपचार के विकल्पों पर सलाह देने में मदद कर सकते हैं।

5. पुरुषों में कितना थायराइड होना चाहिए? (How much thyroid should be in men in Hindi?)

पुरुषों में थायराइड हार्मोन के स्तर की सामान्य सीमा को आमतौर पर थायरोक्सिन (T4) के लिए 0.4 और 4.0 मिलीयूनिट प्रति लीटर (mU/L) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) के लिए 0.4 से 4.0 नैनोग्राम प्रति डेसीलीटर (ng/dL) के बीच माना जाता है। परीक्षण करने वाली विशेष प्रयोगशाला और उपयोग किए जा रहे विशेष परीक्षण के आधार पर ये कैटिगरी थोड़ी अलग हो सकती हैं।

यह ध्यान रखना जरूरी है कि ये केवल सामान्य दिशानिर्देश हैं, और थायराइड हार्मोन के स्तर की सामान्य सीमा प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग हो सकती है। किसी भी व्यक्ति के लिए थायरॉइड हार्मोन का उचित स्तर कई कारणों पर निर्भर करता है, जिसमें उनकी उम्र, समग्र स्वास्थ्य और उनके पास कोई अंदर छिपा हुआ चिकित्सा स्थितियां शामिल हैं।

यदि आप अपने थायराइड हार्मोन के स्तर के बारे में चिंतित हैं, तो स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करना महत्वपूर्ण है। वे आपके थायराइड हार्मोन के स्तर को मापने के लिए जांच कर सकते हैं और यह निर्धारित कर सकते हैं कि आपके स्तर सामान्य सीमा के भीतर हैं या नहीं। यदि आपका थायराइड हार्मोन का स्तर सामान्य सीमा से बाहर है, तो आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता उचित उपचार की जाचं कर सकता है, जिसमें दवा या अन्य उपचार शामिल हो सकते हैं।

6. पुरुषों में थायराइड का निदान कैसे किया जाता है? (How is thyroid diagnosed in men in Hindi?)

पुरुषों में थायराइड की समस्याओं के निदान के लिए कई परीक्षण हैं जिनका उपयोग किया जा सकता है। कुछ सामान्य परीक्षणों में शामिल हैं:

थायराइड-उत्तेजक हार्मोन (TSH) परीक्षण: यह परीक्षण रक्त में TSH के स्तर को मापता है। TSH पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा निर्मित होता है और थायरॉयड ग्रंथि को थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है। एक असामान्य टीएसएच स्तर एक ज्यादा सक्रिय या अंडरएक्टिव थायराइड ग्रंथि को इंगित कर सकता है।

फ्री थायरोक्सिन (FT4) टेस्ट: यह टेस्ट रक्त में FT4 के स्तर को मापता है। FT4 थायराइड हार्मोन थायरोक्सिन (T4) का सक्रिय रूप है। एक असामान्य FT4 स्तर एक ज्यादा सक्रिय या कम सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि का संकेत कर सकता है।

फ्री ट्राईआयोडोथायरोनिन (FT3) टेस्ट: यह टेस्ट रक्त में FT3 के स्तर को मापता है। FT3 थायराइड हार्मोन ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) का सक्रिय रूप है। एक असामान्य FT3 स्तर एक अति सक्रिय या कम सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि का संकेत कर सकता है।

थायराइड एंटीबॉडी परीक्षण: यह परीक्षण रक्त में एंटीबॉडी के स्तर को मापता है जो थायरॉयड ग्रंथि पर हमला करता है। थायराइड एंटीबॉडीज का असामान्य स्तर एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर जैसे ग्रेव्स बीमारी या हाशिमोटो के थायरॉयडिटिस का संकेत दे सकता है।

थायराइड अल्ट्रासाउंड: यह जांच थायरॉयड ग्रंथि की एक छवि बनाने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है। यह स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को ग्रंथि के आकार और आकार का मूल्यांकन करने और किसी भी असामान्यता की पहचान करने में मदद कर सकता है।

यदि आपको अपनी थायरॉयड ग्रंथि या अपने थायराइड हार्मोन के स्तर के बारे में कोई चिंता है, तो स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करना महत्वपूर्ण है। वे उचित परीक्षणों की सिफारिश कर सकते हैं और आपको होने वाली किसी भी थायरॉयड समस्याओं को ठीक करने में मदद कर सकते हैं

7. थायराइड की जांच कब करानी चाहिए? (When should thyroid test be done in Hindi?)

ऐसी कई स्थितियाँ हैं जिनमें थायरॉयड परीक्षण की जांच की जा सकती है। थायराइड जांच के कुछ सामान्य कारणों में शामिल हैं:

थायराइड की समस्याओं को ठीक करने के लिए: यदि आपको थकान, वजन बढ़ना या कम होना, शुष्क त्वचा, या आपके मासिक धर्म चक्र (महिलाओं में) में परिवर्तन जैसे लक्षण हैं, तो आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता यह निर्धारित करने के लिए थायरॉयड जांच की सलाह दे सकता है कि आपको ज्यादा सक्रिय या कम थायरॉयड है या नहीं। ग्रंथि।

थायराइड की समस्याओं के उपचार की देखभाल के लिए: यदि आपको थायरॉयड विकार की पुष्टि किया गया है और उपचार प्राप्त कर रहे हैं, तो आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका उपचार प्रभावी है और आपके उपचार को आवश्यकतानुसार समायोजित करने के लिए नियमित थायराइड परीक्षण की जांच कर सकता है।

बुजुर्ग लोगों में थायराइड की समस्याओं की जाँच करने के लिए: जैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, उन्हें थायराइड की समस्या होने की संभावना अधिक होती है, इसलिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए बुजुर्ग लोगों के लिए थायराइड जांच करना आम बात है।

यदि आपको अपनी थायरॉयड ग्रंथि या अपने थायराइड हार्मोन के स्तर के बारे में कोई चिंता है, तो स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें। वे यह निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं कि थायराइड जांच आपके लिए उपयुक्त है या नहीं और किसी भी आवश्यक जांच या उपचार की सलाह दे सकते हैं।

8. पुरुषों में थायराइड का इलाज कैसे किया जाता है? (How is thyroid in men treated in Hindi?)

पुरुषों में थायराइड की समस्याओं का उपचार विशिष्ट प्रकार और समस्या की गंभीरता पर निर्भर करता है। कुछ सामान्य उपचार विकल्पों में शामिल हैं:

  • दवा: यदि आपको अधिक थायरॉयड (हाइपरथायरायडिज्म) है, तो आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता थायराइड हार्मोन के उत्पादन को धीमा करने के लिए दवा से उपचार की प्रक्रिया शुरू कर सकता है। यदि आपको एक अंडरएक्टिव थायरॉयड (हाइपोथायरायडिज्म) है, तो वे थायराइड हार्मोन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए दवा की सलाह दे सकते हैं।
  • रेडियोधर्मी आयोडीन चिकित्सा: इस उपचार में थोड़ी मात्रा में रेडियोधर्मी आयोडीन लेना शामिल है, जो एक अतिसक्रिय थायरॉयड ग्रंथि को सिकोड़ने में मदद करता है।
  • थायराइड सर्जरी: कुछ मामलों में, थायरॉयड ग्रंथि के सभी या कुछ हिस्से को हटाने के लिए सर्जरी आवश्यक हो सकती है। यदि आपको बड़ा गण्डमाला (बढ़ी हुई थायरॉयड ग्रंथि), थायरॉयड ग्रंथि का कैंसर, या अन्य गंभीर थायरॉयड समस्याएं हैं, तो इसकी सलाह दी जा सकती है।
  • जीवनशैली में बदलाव: स्वस्थ जीवनशैली में बदलाव करना, जैसे नियमित व्यायाम करना और स्वस्थ आहार खाना, आपको बता दें कि थायराइड में खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए क्योंकि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है। अगर आप अपने खान-पान का ध्यान नहीं रखेंगे तो इसके गंभीर परिणाम आपको भुगतने पड़ सकते हैं। आइए खाने से जुड़ी जानकारी के बारे में नीचे पढ़ते हैं।

9. थायरॉइड कम हो तो क्या खाएं? (What to eat if thyroid is low in Hindi?)

कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ (अंगूर, सेब, खरबूजा, ब्रोकोली, फूलगोभी, बीन्स, गाजर, चुकंदर)

हरी पत्तेदार और रंगीन सब्जियां (भिंडी, लौकी, मेथी, पालक, बैंगन, टमाटर, करेला)

प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ (दाल, दही, अंडा, चिकन, मछली)

सूखे मेवे और बीज (अखरोट, सूरजमुखी के बीज, आदि)

10. थायराइड कम हो तो क्या ना खाएं ? (What not to eat if thyroid is low in Hindi?)

सोयाबीन या सोया युक्त खाद्य पदार्थ

उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ (पास्ता, ब्रेड, बर्गर, केक, पेस्ट्री, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, आदि)

मीठा भोजन

11. थायराइड बढ़ जाने पर क्या खाना चाहिए? (What to eat when thyroid is increased in Hindi?

हाई कैलोरी फूड (फुल क्रीम दूध और इससे बना दही, पनीर, केला, खजूर)

उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थ (दाल, राजमा, दही, अंडा, मछली, आदि)

बादाम, अखरोट, पिस्ता, मूंगफली

सफेद तिल, अलसी, सूरजमुखी के बीज, खरबूजे के बीज

फूलगोभी, ब्रोकली आदि।

12. थायराइड बढ़ जाने पर क्या नहीं खाना चाहिए? (What should not be eaten when thyroid is increased in Hindi?)

कम या आयोडीन युक्त खाद्य पदार्थ न खाएं

जंक फूड मत खाओ

भोजन से पहले पीने के पानी या किसी भी पेय से बचें

13. निष्कर्ष (conclusion)

पुरुषों में थायरॉइड के कई लक्षण हैं जिनका उपचार न करने पर यह काफी दुर्बल कर देने वाले हो सकते हैं। यदि आपको संदेह है कि आपको थायरॉयड की समस्या हो सकती है, तो अपने चिकित्सक की जल्द से जल्द दिखाएं। ताकि वे स्थिति का ठीक से पहचान और उपचार कर सकें। सही उपचार के साथ, आप अपने लक्षणों को प्रबंधित कर सकते हैं और स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद, उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण होगी।

पुरुषों में थायराइड का इलाज क्या इलाज?

आपको बता दें की थायरॉइड को कंट्रोल करने में विटामिन-ए एक अच्छा विकल्प हो सकता है. विटामिन ए से भरपूर चीजें लेने के लिए न्यूट्रिशन एक्सपर्ट सलाह देते हैं। गाजर, शकरकंद, लाल शिमला मिर्च, टमाटर, हरीमटर, हरी धनिया, हरी सब्जियां, दूध, मक्खन, अंडा, मछली, कद्दू, आम, पपीता, आड़ू और ड्राई फ्रूट अच्छे सोर्स हैं। यह आपकी थायराइड नियंत्रण करने में मदद कर सकते हैं।

पतले होने वाले थायराइड के लक्षण क्या है?

आपको बता दें कि पतले होने वाला थायराइड लक्षण में थायराइड शरीर में हार्मोन अधिक बनाता है जिस कारण वजन कम होने लगता है। इसे हाइपरथायरायडिज्म (Hyperthyroidism) कहते हैं।

पैरा थायराइड के लक्षण क्या है?

पैरा थायराइड के लक्षण में गर्दन में गांठ गले या गर्दन में दर्द, गर्दन की नसों में सूजन लगातार कफ आना तथा आवाज में बदलव यह प्रमुख लक्षण हो सकते हैं। कई मामलों में इसके लक्षण देर से दिखाई देते हैं। जो हड्डियों की कमजोरी का कारण बन सकते हैं।

थायराइड कितने दिन में ठीक हो जाता है?

थायराइड का ठीक होना उसके उपचार और रोग की गंभीरता पर निर्भर करता है। आपका स्वास्थ्य प्रदाता लक्षण की जांच करके उचित इलाज की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here