सिर दर्द का कारण और माइग्रेन का एक्यूप्रेशर पॉइंट उपाय

सिर दर्द का कारण

सिर का दर्द किसी को भी हो सकता है, लेकिन यह असहनीय पीड़ा दायक होता है। इसके कई अलग अलग कारण हो सकते हैं। जिसके बारे में आज हम इस पोस्ट में आपको आसान शब्दों में बताएंगे। साथ ही सिर दर्द और माइग्रेशन का एक्यूप्रेशर पॉइंट क्या है बताएंगे। इसके अलावा सिर दर्द का पक्का इलाज और आयुर्वेदिक उपाय के सटीक जानकारी देंगे।

1. सिर दर्द का कारण

  1. माइग्रेन, जिसे आधे सिरदर्द के रूप में भी जाना जाता है, अक्सर युवा व्यक्तियों में देखा जाता है। यह ज्यादातर सिर के एक तरफ सिरदर्द की विशेषता है, इसके साथ मतली,आँख के सामने अंधेर या चक्कर आना जैसे लक्षण होते हैं। इसका प्रभावी इलाज किया जा सकता है।
  1. तनाव-प्रकार का सिरदर्द एक सामान्य प्रकार का सिरदर्द है जो सिर पर एक सुस्त दर्द के रूप में प्रस्तुत करता है। यह पूरे दिन तक बना रह सकता है और इसके कोई अन्य संबंधित लक्षण नहीं होते हैं। इसका प्रभावी ढंग से इलाज किया जा सकता है।
  1. दर्द निवारक दवाओं के अत्यधिक उपयोग के कारण दवा अति प्रयोग सिरदर्द होती है। जब व्यक्ति लगातार सिरदर्द का अनुभव करते हैं, तो वे नियमित रूप से दर्द निवारक लेना शुरू कर सकते हैं, जिससे निर्भरता हो सकती है और सिरदर्द का कारण बन सकता है।
  1. सर्दी, साइनस का दर्द, चश्मा और अन्य कारक भी सिरदर्द का कारण बन सकते हैं।
  1. यदि किसी व्यक्ति को गर्दन की असुविधा होती है, जिसे स्पोंडिलोसिस के रूप में जाना जाता है, तो यह सिरदर्द का कारण भी बन सकता है।
  1. मेनिन्जाइटिस मस्तिष्क में एक संक्रमण को संदर्भित करता है जो सिरदर्द का कारण बन सकता है।
  1. उच्च रक्तचाप सिरदर्द का कारण बन सकता है। अगर बीपी बढ़ने के कारण दिमाग की रक्त वाहिकाओं से खून बहने लगे तो इससे गंभीर सिरदर्द हो सकता है।
  1. सेरेब्रल वेनस साइनस थ्रोम्बोसिस (CVST) तब होता है जब मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं में एक रुकावट होती है, जिससे सिरदर्द होता है।
  1. वास्कुलिटिस रक्त वाहिका सूजन के कारण होने वाला एक प्रकार का सिरदर्द है।
  1. ब्रेन ट्यूमर एक लक्षण के रूप में गंभीर सिरदर्द का कारण बन सकता है।

2. सिर दर्द का एक्यूप्रेशर पॉइंट क्या है 

1 अंगूठे और तर्जनी के बीच

इसे यूनियन वैली पॉइंट कहा जाता है, जो आपके अंगूठे और तर्जनी के बीच वेब पर स्थित होता है। इस बिंदु पर काम करने से आपका सिरदर्द कम समय में गायब हो जाएगा और आप तनाव मुक्त रहेंगे। एक्यूप्रेशर के लिए, इस बिंदु को अपने दूसरे हाथ के अंगूठे और तर्जनी से पिंच करके शुरू करें। इस बिंदु पर 10 सेकेंड तक दबाव बनाए रखें। इससे आपका तनाव धीरे-धीरे कम होने लगेगा और आपका सिरदर्द कम होने लगेगा।

2 कंधे का ऊपरी भाग:

कंधा न सिर्फ हमारा बोझ उठाता है बल्कि हमारे दर्द को भी कम करने का काम करता है। कंधों के ऊपरी हिस्से या किनारों पर एक्यूप्रेशर बिंदु होते हैं, जिन्हें दबाने से आपको काफी आराम महसूस होगा और आप तनाव मुक्त महसूस करने लगेंगे। इस दबाव बिंदु का उपयोग करने के लिए, अपने अंगूठे का उपयोग करके इसे लगभग एक मिनट तक दबाने का प्रयास करें। ऐसा करने से आपके कंधों और सिर के साथ-साथ आपके पूरे शरीर को आराम मिलेगा और यह एक्यूप्रेशर प्वाइंट थकान को दूर करने में भी फायदेमंद है।

3 गर्दन का हिस्सा:

सिर के ठीक नीचे गर्दन का हिस्सा भी सिरदर्द के लिए एक्यूप्रेशर बिंदु के रूप में प्रयोग किया जाता है। इस हिस्से पर दबाव देने से आपका सिर दर्द जल्दी दूर हो जाता है और आपको तनाव मुक्त होने का मौका मिलता है। इसे करने के लिए दोनों हाथों की उंगलियों को एक ही समय में दोनों हाथों के बीच में रखकर ऊपर की ओर करीब 10 सेकंड तक मजबूती से दबाएं और फिर धीरे से छोड़ दें।

4 दोनों आँखों के बीच

दोनों आंखों के बीच के बिंदु को ड्रिलिंग बांस बिंदु कहा जाता है, जो दोनों तरफ इंडेंटेशन पर स्थित होता है जहां आपकी नाक का पुल आपकी भौहें से मिलता है। सिरदर्द का इलाज करने के लिए, दोनों हाथों की तर्जनी का उपयोग करके दोनों बिंदुओं पर दबाव डालकर शुरुआत करें। इसे 10 सेकेंड तक रोक कर रखें और धीरे-धीरे इसे छोड़ने की कोशिश करें। धीरे-धीरे इससे आपका सिर दर्द दूर हो जाएगा। कुछ देर बाद यही प्रक्रिया दोहराएं।

3. माइग्रेन एक्यूप्रेशर पॉइंट क्या है 

माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए एक्यूप्रेशर प्वाइंट आजमाएं। आंख के पास वाले नाजुक गड्ढे को कान से थोड़ी दूर पर दबाएं। सिर के दोनों ओर के गड्ढों को अंगूठे से दबाएं। सिर पर जहां बाल रखे हैं वहां दबाने से आराम मिलेगा। सिर के पीछे गड्ढे को हल्का दबाने से भी लाभ होगा।

सिर दर्द और माइग्रेन का एक्यूप्रेशर पॉइंट

4. सिर दर्द का आयुर्वेदिक उपाय

1 तुलसी के पत्तों का प्रयोग

अगर आपको गैस, सर्दी या खांसी की वजह से सिरदर्द है तो आप तुरंत तुलसी के पत्तों की चाय का सेवन करें। आप इसका काढ़ा बनाकर भी पी सकते हैं।

2 पिपली का प्रयोग

अगर आपको एसिडिटी या खांसी-जुकाम की वजह से सिरदर्द है तो आप पिपली का इस्तेमाल कर सकते हैं। पिपली के सेवन से शरीर में मौजूद हानिकारक टॉक्सिन्स को भी खत्म किया जा सकता है।

3 त्रिफला का प्रयोग

अगर आंखों की समस्या के कारण सिरदर्द होता है तो त्रिफला (तीन फलों का मिश्रण) के चूर्ण का सेवन करने से सिरदर्द की समस्या से निजात मिल सकती है। सिरदर्द होने पर आप सिर दर्द से राहत पाने के लिए ब्राह्मी, लौंग, सौंफ, अदरक और चीनी जैसी चीजों का भी सेवन कर सकते हैं।

4 पुदीना का प्रयोग

अगर आपको साइनस, एलर्जी या खांसी-जुकाम की वजह से सिरदर्द है तो इसे दूर करने के लिए आप पुदीने का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आप पुदीने के अर्क या तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप पुदीने के तेल से सिर की मालिश कर सकते हैं। आप चाहें तो पुदीने की पत्तियों को पीसकर भी लेप को अपने माथे पर लगा सकते हैं।

5. आधा सिर दर्द का घरेलू उपाय

1 गुड़ और दूध का सेवन:

दूध के साथ गुड़ का सेवन माइग्रेन के लिए कारगर उपाय है। सुबह उठकर खाली पेट गुड़ का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखें और ऊपर से ठंडा दूध पी लें। सुबह के समय इस उपाय का नियमित सेवन करने से माइग्रेन के दर्द से काफी राहत मिलती है।

2 अदरक का सेवन:

माइग्रेन सहित कई चीजों के लिए अदरक फायदेमंद होता है। जब भी आपको माइग्रेन का सिरदर्द हो तो अदरक का एक छोटा टुकड़ा अपने दांतों के बीच रखें और इसे चबाते रहें। शोध से यह भी पता चला है कि अदरक माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद करता है।

3 दालचीनी:

दालचीनी माइग्रेन के दर्द से भी राहत दिलाती है। दालचीनी को पीसकर इसका पेस्ट बना लें और इसे अपने माथे पर करीब आधे घंटे के लिए लगाएं। यह माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद करेगा।

4 लौंग का सेवन:

लौंग माइग्रेन के लिए भी फायदेमंद होती है। जब भी आपको माइग्रेन का अनुभव हो तो लौंग के पाउडर में थोड़ा नमक मिलाकर दूध के साथ सेवन करें। इससे माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी।

5 आइस पैक:

माइग्रेन सहित कई प्रकार के दर्द के लिए बर्फ को एक प्रभावी उपाय माना जाता है। माइग्रेन का अटैक आने पर एक कपड़े में चार बर्फ के टुकड़े लपेटकर सिर पर 15 मिनट के लिए रखें। यह आपके सिर दर्द के दर्द को काफी हद तक कम कर सकता है।

6 गर्म गद्दी:

हालांकि माइग्रेन का असली कारण अभी भी अज्ञात है, तनाव अक्सर दर्द को ट्रिगर कर सकता है। ऐसे में हीटिंग पैड दर्द से काफी हद तक राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

7 सिर की मालिश:

ऐसा कहा जाता है कि अपने हाथों से अपने सिर, गर्दन और कंधों की मालिश करने से माइग्रेन का दर्द कम हो सकता है। मालिश के लिए आप तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

8 तेज रोशनी से बचें:

तेज रोशनी भी माइग्रेन के दर्द को ट्रिगर कर सकती है। इसलिए, यदि आप माइग्रेन से ग्रस्त हैं, तो आपको जितना हो सके तेज रोशनी से बचने की कोशिश करनी चाहिए।

9 पर्याप्त नींद:

नींद पूरी न होने से भी माइग्रेन हो सकता है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि माइग्रेन पीड़ितों को पर्याप्त नींद लेनी चाहिए। गहरी नींद से माइग्रेन के दर्द से काफी राहत मिल सकती है। शोर और विकर्षण से दूर एक शांत, अंधेरे कमरे में सोने की कोशिश करें।

FAQ

सिर में दर्द होने से कौन सा पॉइंट दबाना चाहिए?

एक्यूप्रेशर बिंदुओं से माइग्रेन से राहत पाने के उपाय:
जहां मंदिर स्थित है वहां दबाने से राहत मिल सकती है। सिर के पीछे के छिद्र को हल्के से दबाने से भी लाभ मिल सकता है। दोनों हाथों की अनामिका के शीर्ष को दबाने से मदद मिल सकती है। सभी अंगुलियों के शीर्ष को दबाना भी प्रभावी हो सकता है।

आप 10 सेकंड में सिरदर्द से कैसे छुटकारा पा सकते हैं?

यूनियन वैली (LI4) बिंदु आपके अंगूठे और तर्जनी के बीच वेब पर स्थित हैं। सिरदर्द का इलाज करने के लिए: इस क्षेत्र को अपने दूसरे हाथ के अंगूठे और तर्जनी से मजबूती से दबाएं – लेकिन दर्द के बिंदु तक नहीं – 10 सेकंड के लिए।

आप अपने सिर के पीछे सिरदर्द से कैसे छुटकारा पा सकते हैं?

उपचार में, गर्म सेंक और कोमल मालिश को आमतौर पर शामिल किया जाता है। विरोधी भड़काऊ दवाएं और मांसपेशियों को आराम देने वाले भी दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। यदि आप लगातार सिरदर्द का अनुभव करते हैं, तो आपका डॉक्टर हमलों को कम करने के लिए एंटीडिप्रेसेंट या एंटीपीलेप्टिक दवाएं लिख सकता है।

एक साइड का सिर दर्द

सिर के बाईं ओर इस तरह के दर्द का कारण माइग्रेन, क्लस्टर, ब्रेन ट्यूमर, स्ट्रोक या संक्रमण हो सकता है। ऐसे में इस स्थिति को नज़रअंदाज़ करने से बचना ज़रूरी है, क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है। माइग्रेन, उदाहरण के लिए, सिर के बाईं ओर मतली, उल्टी, चक्कर आना और सिरदर्द जैसी असुविधाएँ पैदा कर सकता है।

Leave a Comment