शतावरी के फायदे 9 Benefits of Asparagus

1
460

शतावरी के फायदे, उपयोग और नुकसान

शतावरी के फायदे

शतावरी को आयुर्वेद में औषधि रानी (Queen of herb Satawri) भी कहा जाता है। दोस्तों कई लोग ऐसे भी हैं जो शतावरी के फायदा से अनजान हैं और उनके लिए शतावरी एक दवा है। परंतु वह शतावरी के गुणकारी पौधों के बारे में नहीं जानते हैं। मैं आज आपको इस लेख के माध्यम से शतावरी के गुणकारी फायदे, इसके उपयोग और नुकसान बताऊंगा।

1. शतावरी क्या है? (What is Shatavari in Hindi)

शतावरी एक पौधा है जिसे आयुर्वेद में ममेध्य रसायन भी कहा जाता है। इसके पौधे की जड़ का इस्तेमाल आयुर्वेद में किया जाता है। यह कई प्रकार की बीमारियों को नष्ट करने में भी उपयोगी मानी जाती है। साथ ही शारीरिक कमजोरी को दूर करने में और बॉडी बिल्डिंग में इसका इस्तेमाल किया जाता है। शतावरी को शतमूली भी कहा जाता है। इसका कारण आयुर्वेद के अनुसार सतावर में कम से कम 100 फायदे होते हैं। साथ ही इसके पौधे को जमीन से उखाड़ने पर 100 से अधिक जड़े दिखाई देती हैं। 

शतावरी अपने स्टेरॉइडल सपोनिन्स Steroidal Saponins) की वजह से जाना जाता है। साथ-साथ इसमें

  • एस्तराजिन  (Asparagine)
  • अर्जिनिन    (Arginine)
  • टायरोसिन   (Tyrosine)
  • फ्लेवोनॉयड (Flavonoids)
  • रेसिन        (Resin)
  • टनीन.       (Tannin)

2. शतावरी में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrients found in Shatavari in Hindi)

शतावर ढेर सारे विटामिंस और मिनरल्स का स्रोत माना जाता है। आइए जानते इसमें कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं।

  • विटामिन- A   (Vitamin- A)
  • विटामिन- B1 (Vitamin- B1)
  • विटामिन- B2 (Vitamin- B2)
  • विटामिन- C  (Vitamin- C)
  • विटामिन- E  (Vitamin- E)
  • जिंक            (Zinc)
  • कोपर           (Copper)
  • कोबाल्ट        (Combat)
  • मैग्नीशियम    (Manganese)
  • आईरन         (Iron)
  • सोडियम       (Sodium)
  • पोटैशियम     (Potassium)
  • कैल्शियम     (Calcium)
  • लिथियम      (Lithium)
  • फोलिक       (Folic)
  • एसिड.        (Acid)

3. शतावरी के फायद (Benefits of Asparagus in Hindi)

दिमाग के लिए शतावरी के फायदे शतावरी के फायद

आयुर्वेद में शतावरी को मेध्य रसायन भी कहा जाता है, यानी ब्रेन टॉनिक माना जाता है। अगर आप शतावरी का सेवन करते हैं। यह स्ट्रेस, एंजायटी और डिप्रेशन को दूर करने में सहायक माना जाता है। जिस वजह से आपको चीजों को अच्छे से समझने में, अच्छे से याद रखने में और अच्छे से कंसंट्रेट करने में मदद मिलती है।

घबराहट और चिड़चिड़ा पन के लिए शतावरी के फायदे

ऐसे लोग जिनको बिना किसी वजह के चिड़चिड़ापन या घबराहट होती है ऐसे लोगों के लिए शतावरी का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है क्योंकि शतावरी हमारे शरीर में सेराटोनिन डोपामिन नोरेपिनेफरीने (serotonin, dopamine and norepinephrine) हैप्पी हारमोंस को सीक्रेट करती है। जिस वजह से मूड अच्छा होता है। घबराहट और चिड़चिड़ा पन जैसी परेशानियां दूर रहते हैं। 

 आंखों की सेहत के लिए शतावरी के फायदे

 शतावरी के फायदे आंखों की समस्या  दूर करने  मैं भी देखे जा सकते हैं। ऐसे लोग जिन्हें मायोपिया है या हाइपरमेट्रोपिया है, यानी ऐसे लोग जिन्हें दूर का साफ दिखाई नही देता या फिर ऐसे लोग जिन्हें पास का साफ दिखाई नहीं देता। अगर इनकी उम्र 25 से कम की है। प्रतिदिन शताब्दी का सेवन करने से  उनका चश्मा उतर जाता है 

शतावरी के फायदे अस्थमा के लिए शतावरी के फायदे

शतावरी के सेवन सभी प्रकार के एलर्जी मैं फायदा होता है। जिस वजह से इसका सेवन अस्थमा रोगियों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा ट्यूबरक्लोसिस की परेशानी को भी दूर करता है।

पाचन शक्ति के लिए सतावर के फायदे

ऐसे लोग दिन की पाचन क्रिया कमजोर है। खाया पिया शरीर में नहीं नहीं लगता। शतावरी लेने से उनकी यह समस्या दूर होती है। यह हमारे आंतों के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट के बैक्टीरिया को न्यूट्रीशन देने का करता है  जिस वजह से आतें अच्छे से काम करती हैं। खाया पिया शरीर मैं लगता है।

कब्ज दूर करने के लिए शतावरी के फायदे

जो लोग लंबे समय से कब्ज की समस्या से जूझ रहे हैं। शतावर का सेवन करना उनके लिए फायदेमंद हो सकता है या फिर ऐसे लोग जिन्हें लूज मोशन की शिकायत रहती ह वह भी शतावर का सेवन कर सकते हैं। कब्ज और लूज मोशन पाइल्स की समस्या का एक कारण है। इसलिए हम कह सकते हैं, कि पाइल्स की समस्या को भी दूर रखने के लिए सतावर के फायदे देखे जा सकते हैं।

मोटापे में शतावरी के फायदे

ऐसे व्यक्ति जिनका वजन बिना किसी वजह से बढ़ता चला जा रहा है। शतावरी का सेवन उनके लिए फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि यह शरीर के अंदर एडीपॉज सेल्स(adipose cells) मैं चर्बी जमने की समस्या को जड़ से खत्म कर देता है।

मधुमेह में शतावरी के फायदे

शतावरी का सेवन टाइप 2 डायबिटीज वालों के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन बी-2 पाया जाता है। जो रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में फायदेमंद माना जाता है।

स्किन के लिए शतावरी के फायदे

शतावरी का इस्तेमाल त्वचा की कई प्रकार की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक माना जाता है। इसमें मौजूद ग्लूटाथिओन कील, मुंहासे और फोड़े फुंसी को खत्म करने में कारगर माने जाते हैं। इसके अलावा कील मुहांसों से होने वाले निशान को खत्म करने में भी सहायक माना जाता है। शतावरी में मौजूद ग्लूटाथिओन की सबसे बड़ा फायदा है। यह बॉडी मौजूद कैंसर टिशूज को बाहर निकालने में मदद करता है।

हड्डियों की हेल्थ के लिए शतावरी के फायदे

शतावरी में विटामिन-K पाए जाता हैं। जो हड्डियों की हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं। 

स्किन को गोरा बनाने में शतावरी के फायदे

शतावरी में ग्लूटाथिओन (Glutathione) पाया जाता है। जो नेचुरल स्किन को गोरा बनाने में सहायक होता है। आप इसका आधा चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ ले सकते हैं जिससे आपकी स्किन नेचरली वाइट होगी।

शतावरी के फायदे
शतावरी के फायद

4. बॉडी बनाने के लिए शतावरी के फायदे

शतावरी के फायदे पुरुषों के लिए बॉडी बिल्डिंग में बहुत ही उपयोगी होते हैं।

  • बॉडी बनाने के लिए अच्छी और गहरी नींद का आना बहुत जरूरी है। क्योंकि सोने के दौरान हमारे हार्मोन बैलेंस होते हैं। इसके अलावा मसल्स की रिकवरी भी अच्छे से होती है। शतावर लेने से नींद ना आने की समस्या दूर होती है। आप सतावर का इस्तेमाल अश्वगंधा के चूर्ण के साथ भी कर सकते हैं। यह दोनों ही बेहतर नींद लाने के लिए कारगर माने जाते हैं।
  • शतावरी के फायदे दुबले पतले लोगों को तंदुरुस्त करने में देखे जा सकते हैं। इसके सेवन से शरीर हष्ट पुष्ट होता है। जो लोग जिम जाते हैं। अपना वेट गैन करना चाहते हैं, शतावरी के चूर्ण में  अश्वगंधा और  सफेद मूसली का चूर्ण मिक्स करके रात में सोने से  पहले एक गिलास दूध के साथ लेना फायदेमंद होगा।
  • बॉडी बनाने के लिए पाचन क्रिया ठीक होना बहुत जरूरी है। शतावर में एंटीअल्सर प्रॉपर्टी पाई जाती हैं। जो कि पाचन से संबंधित समस्या को दूर करती है। जिससे बॉडी बनाने में मदद मिलती है।
  • शतावरी के सेवन से टेस्टोरोन लेवल बढ़ने में मदद मिलती है। यदि आपका टेस्टोरोन लेबल वीक है। अश्वगंधा के चूर्ण के साथ इसका सेवन कर सकते हैं जिससे यह समस्या दूर होने में मदद मिलेगी।
  • दोस्तों बॉडी बनाने के लिए शतावरी का डायरेक्ट कोई फायदा नहीं देखा जाता है। लेकिन यह इनडायरेक्टली बॉडी बनाने के लिए सपोर्ट करता है, जैसे नींद बेहतर करता है, स्टेशन लेवल को बढ़ाता और पाचन क्रिया को मजबूत करता है। जो की बॉडी बिल्डिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

दोस्तों मैंने अभी तक शतावरी के फायदे आपको बताएं है। आगे के लेख में शतावरी का उपयोग कैसे करें बताऊंगा।

5. महिलाओं के लिए शतावरी के फायदे

  • शतावरी  के सेवन से महिलाओं में अच्छे फायदे देखे जा सकते हैं। यह महिलाओं में  reproductive system के लिए फायदेमंद है। यानी Ovaries, Uterus एंड Fallopian Tube वरदान साबित हो सकती है।
  • पीरियड के समय समय शतावरी के फायदे

इनफर्टिलिटी (Infertility Issue) यानी अंडाशय का ना होंने की समस्या दूर करता है। शतावरी में नेचुरल एस्ट्रोजन बूस्टर (Estrogen Booster), सपेनिस (Saponin) और आइसोफ्लेवोन्स (Isoflavones) कंपाउंड मौजूद होते हैं। जो हार्मोन बैलेंस करने में सहायक माने जाते हैं। जिससे महिलाओं में इनफर्टिलिटी सुधार होता है।

  • ब्रेस्ट विकास में शतावरी के फायदे

जो महिलाएं अपने ब्रेस्ट के साइज को लेकर तनाव में रहती हैं  उनका ब्रेस्ट साइज का आकार काफी छोटा है। शतावरी लेने से उनकी यह समस्या दूर होती है। क्योंकि शतावरी में नेचुरल फाइटो एस्ट्रोजन पाए जाते हैं। जो बेस्ट के विकास के लिए फायदेमंद होते हैं।

6. शतावरी का उपयोग

  • इसकाका उपयोग करने के लिए एक गिलास दूध को उबाल लें दूध ठंडा होने के बाद 2 ग्राम चूर्ण का उपयोग कर सकते हैं। क्या प्रयोग आप दिन में दो बार कर सकते हैं।
  • जो लोग दूध पीना पसंद नहीं करते  वेट इसे गुनगुने पानी के साथ पी ले सकते हैं इसके लिए  एक चम्मच में 2 ग्राम खून की मात्रालेकर मुंह में डाल लें उसके बाद हल्का गुनगुना पानी ऊपर से पीले।

शतावरी लेने के बहुत से फायदे हैं अभी तक मैंने आपको शतावरी के फायदे बताए हैं। लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से साइड इफेक्ट भी देखे जा सकते हैं।

7. शतावरी के नुकसान

  • ऐसे लोग जिन्हें एलर्जी की समस्या रहती है। वह लोग शतावरी का सेवन ना करें। इसके सेवन से एलर्जी होने की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।
  • शतावरी का सेवन करने के दौरान तेजी से दिल धड़के, जीमचले, उल्टी होने का मन करें या आंखों में खुजली की समस्या आदि होने पर इसका सेवन तुरंत बंद कर दें।
  • शतावरी के सेवन से डायरिया की समस्या हो सकती है। इसके अलावा एसिडिटी की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।
  • शतावरी का अधिक सेवन ना करें न्यूट्रिशन एक्सपर्ट द्वारा डोज की मात्रा का ही सेवन करें। इसके अधिक सेवन से इसके साइड इफेक्ट देखे जा सकते हैं। इस पर अभी और रिचार्ज होना बाकी है। इसलिए इसका इस्तेमाल संभल कर ही करें।
  • डायबिटीज और लो ब्लड प्रेशर के रोगियों को शतावरी का सेवन ना करने की सलाह दी जाती है इसलिए ऐसे लोग शताब्दी के सेवन से परहेज करें।
  • जिन लोगों की किडनी में पथरी है उन्हें शतावरी का सेवन करने से परहेज करना चाहिए।

8. शतावरी के अन्य भाषाओं में नाम 

शतावरी का मतलब हिंदी में or Asparagus meaning in Hindi- सतवर, सतवारी, सतमुली, शतावरी, सरनोई

  • नेपाली में शतावरी- सतमुली, कुरीलो (Asparagus in Nepali – Satmuli, Kurilo)
  • अंग्रेजी में शतावरी- जंगली शतावरी (Shatavari in English – wild asparagus)
  • अरबी में शतावरी- शकाकुल (शक़क़ुल) (Shatavari in Arabic – Shakakul Shaqul)
  • गुजराती में शतावरी- एकलकांता, शतावरी (Shatavari in Gujarati – Eklakanta, Shatavari)
  • संस्कृत में शतावरी – शतावरी, शतपदी, शतमूली, महाशिता, नारायणी, कंचनकारिणी, पिवरी, सुकृतिका, अतीरसा, भीरू, नारायणी, बहुसुता, बहयात्रा, तलमुली, देशी शतावरी (Shatavari in Sanskrit – Shatavari, Shatpadi, Shatmuli, Mahashita, Narayani, Kanchankarini, Pivari, Sukritika, Atirsa, Bhiru, Narayani, Bahusuta, Bahayatra, Talmuli, Native Shatavari)
  • पंजाबी में शतावरी- Bozandan; बोज़िदान (Shatavari in Punjabi- Bozandan; bozidan)
  • मराठी में शतावरी- असवेल, शतावरी   (Shatavari in Marathi – Asvel, Shatavari)
  • मलयालम में शतावरी- शतावरी, शतावली (Shatavari in Malayalam – Shatavari, Shatavali)
  • तमिल में शतावरी या तमिल में शतावरी अर्थ- किलावरी, पनियिनक्कु (Shatavari in Tamil or Shatavari in Tamil meaning – Kilavari, Paniyankku)
  • तेलुगु में शतावरी या तेलुगू में शतावरी- चल्लागड्डा, एट्टावलुदुतिगे (Shatavari in Telugu or Shatavari in Telugu- Challagadda, Ettavaludutige)
  • बंगाली में शतावरी- शतमुली, सतमुलि (Shatavari in Bengali – Shatmuli, Satmuli)
  • उर्दू में शतावरी- सतवार  (Shatavari- Satwar in Urdu)
  • उड़िया में शतावरी– छोटारू, मोहनोले (Shatavari in Oriya – Chotaru, Mohanole)

9. शतावरी का चित्र

शतावरी का चित्र
  • शतावरी का चित्र
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here