1. दालचीनी के फायदे Cinnamon benefits and uses

1
209

दालचीनी के फायदे उपयोग

दालचीनी के फायदे
दालचीनी के फायदे

दालचीनी का उपयोग कई वर्षों से मसालों में किया जाता आ रहा है। मसाले में इसकी मौजूदगी खाने को स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ हमारे स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होती है। आयुर्वेद के अनुसार दालचीनी एक औषधीय है। जिसका प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है। लेकिन भारत ही नहीं पूरी दुनिया में कई लोग ऐसे भी हैं। जिन्हें दालचीनी के औषधीय गुणों की जानकारी नहीं है। आज के इस लेख में हम दालचीनी के गुणों की जानकारी आपके साथ साझा करेंगे साथ ही इससे जुड़ी अन्य कई प्रकार की जानकारियां विस्तार से आपके सामने रखेंगे। जिसे आप इसका भरपूर लाभ ले सकते हैं। 

1. दालचीनी क्या है

दालचीनी एक मसाला है। जिसे मसाले में इस्तेमाल किया जाता है। दालचीनी की छाल तेज पत्ते के वृक्ष से प्राप्त किया जाता है या फिर यह भी कह सकते हैं कि तेजपत्ता और दालचीनी एक ही वृक्ष का हिस्सा है। इस वृक्ष के नए पत्ते हल्के गुलाबी रंग के होते हैं, जो बाद में हरे रंग में परिवर्तित हो जाते हैं। अगर इसकी पत्तियों को मला जाए तो, इनमें से तीखी गंध आती है। दालचीनी की छाल भोले रंग की तथा मुलायम होती है। इसके के फूल का रंग सफेद तथा हारा और फूल का साइज छोटा होता है। आयुर्वेद में दालचीनी का प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों का इलाज के लिए किया जाता है।

2. दालचीनी के फायदे

डायबिटीज में दालचीनी के फायदे

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिसमें शरीर उचित मात्रा में इंसुलिन प्रोड्यूस नहीं कर पाता। जिस कारण से शरीर में शुगर एब्जॉर्ब नहीं हो पाता। और ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। दालचीनी में कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं, जो शुगर लेवल को नियंत्रण करने में मदद करते हैं।

दालचीनी के सेवन से हमारी पैंक्रियास में इंसुलिन का उत्पादन बढ़ जाता है। इसके साथ साथ ग्लूकोस को प्रोसेस करने में इंसुलिन की क्षमता भी बढ़ती है। इसके अलावा दालचीनी में कुछ ऐसे एंटी डायबिटीक कंपाउंड पाए जाते हैं, जो शरीर में गुलकोज के एब्जॉर्ब की गति को धीमा करने में सहायक होते हैं। इस प्रमाण से हम कह सकते हैं, दालचीनी डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। इसका सेवन डायबिटीज को नियंत्रित करने में लाभकारी होता है।

पाचन क्रिया मैं दालचीनी के फायदे

दालचीनी का सेवन पाचन से संबंधित समस्याओं के लिए बेहद फायदेमंद होता है। जो पेट की गैस, अपच, कब्ज, पेट दर्द और एसिडिटी और की समस्या को दूर करने में कारगर माना जाता है। इसके लिए आप चुटकी भर दालचीनी पाउडर के साथ शायद मिलाकर दिन में तीन बार ले सकते हैं।

पार्किंसन रोग मैं दालचीनी के फायदे

पार्किंसन रोग में दालचीनी का सेवन करना फायदेमंद होता है। यह एक ऐसी बीमारी है। जिसमें शारीरिक कमजोरी के साथ-साथ नसों की कमजोरी भी हो जाती है, और चलते वक्त शरीर लड़खड़ाने की भी समस्या होती है। ऐसे लोगों को 2 ग्राम सुबह और 2 ग्राम शाम को दालचीनी का सेवन करना फायदेमंद होता है।

याददाश्त के लिए दालचीनी के फायदे

दालचीनी का सेवन करने से याददाश्त बढ़ाने में मदद मिलती है। यह खासकर स्टूडेंटस के लिए फायदेमंद होता है, जो पढ़े हुए को याद रखने मैं मददगार होता है। साथी याददाश्त की समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है, और इसका सेवन कोई भी व्यक्ति याददाश्त से संबंधित समस्या के लिए कर सकता है।

अनिद्रा मैं दालचीनी के फायदे

ऐसे लोग जिन्हें नींद ना आने की शिकायत है साथ ही डिप्रेशन से जूझ रहे हैं दालचीनी पाउडर का सेवन करना उनके लिए बेहद फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो हमारे दिमाग की नसों को मजबूती देते हैं जिसे नींद ना आने की बीमारी खत्म हो जाती है। इसके लिए दालचीनी का पाउडर सुबह शाम की योग कर सकते हैं।

हिचकी में दालचीनी के फायदे

दालचीनी का सेवन करना हेचडी के लिए फायदेमंद होता है। वैसे तो हिचकी आना आम बात है। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें हिचकी की समस्या लगातार रहती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए दालचीनी का उपयोग कर सकते हैं। ऐसे लोगों को 15 से 20 ग्राम दालचीनी पाउडर का काढ़ा बनाकर पीना चाहिए।

भूख बढ़ाने में दालचीनी के फायदे

ऐसे लोग जिन्हें भूख नहीं लगती और अपनी भूख को बढ़ाना चाहते हैं। उनके लिए दालचीनी का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। शुंठी पाउडर, इलायची पाउडर और दालचीनी पाउडर तीनों की मात्रा 500 मिलीग्राम में एक साथ मिलाकर भोजन करने से पहले सुबह शाम ले सकते हैं। यह उपाय भूख बढ़ाने में फायदेमंद माना जाता है।

नाक  के रोग में दालचीनी के फायदे

नाक के रोग के लिए दालचीनी का सेवन बहुत फायदेमंद हो सकता है। 3 ग्राम दालचीनी 600 मिलीग्राम लोंग 2 ग्राम सौंठ को 1 लीटर पानी में उबाल लें, और इतना उबलें जब तक पानी एक चौथाई यानी 250 ग्राम रह जाए। इसके बाद छानकर रख लें, 1 दिन में तीन बार इस पानी का सेवन करने से नाक के रोग में फायदा होता है। 50 मिली की मात्रा से अधिक इसका सेवन ना करें।

आंतो की समस्या मैं दालचीनी के फायदे

आंतो को स्वस्थ रखने के लिए दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है। यहां आंतो के लिए फायदेमंद होता है। इसके तेल से पेट की मालिश करने पर आंतों को फायदा पहुंचता है।

दालचीनी और शहद के फायदे
दालचीनी और शहद के फायदे

3. दालचीनी और शहद के फायदे

  • कोलेस्ट्रोल को कम करने में दालचीनी बहुत ही उपयोगी है। जिन लोगों के शरीर में वजन बढ़ने की समस्या अधिक है, और मोटापे की समस्या से जूझ रहे हैं। ऐसे लोगों के लिए दालचीनी का उपयोग करना फायदेमंद हो सकता है। एक कप पानी में दो चम्मच शहद तथा तीन चम्मच दालचीनी का पाउडर मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। साथ यह मोटापे की समस्या को भी दूर करने में फायदेमंद माना जाता है।

हृदय रोग मैं शहद और दालचीनी के फायदे

हृदय रोग के लिए दालचीनी के साथ शहद का प्रयोग लाभकारी होता है क्योंकि यह हृदय की धमनियों में कोलेस्ट्रॉल को जमने से रोकने का काम करता है जिस कारण हृदय स्वस्थ बना रहता है आधा चम्मच शहद और आधा चम्मच दालचीनी पाउडर को मिक्स करके प्रतिदिन सेवन करने से दिल से संबंधित समस्या दूर होती हैं।

अर्थराइटिस मैं शहद और दालचीनी के फायदे

आयुर्वेद में डॉक्टर पुराने समय से दालचीनी और शहद का प्रयोग अर्थराइटिस रोग मैं करते आ रहे हैं। शहद में मौजूद पोटैशियम और दालचीनी में मौजूद सिनेमल हाइक तत्व एक साथ मिलकर सूजन का इलाज करने में कारगर होते हैं। इसका पेस्ट बनाने की विधि दो चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर को अच्छे से मिलाकर इसका पेस्ट तैयार कर लें।

आप इस मिश्रण का प्रयोग प्रभावित स्थान यानी दर्द वाले स्थान पर कर सकते हैं। इसके अलावा इस मिश्रण को गर्म पानी में मिलाकर दिन में 1 बार सेवन कर सकते हैं जिससे आपको अर्थराइटिस की समस्या में आराम मिलेगा।

एलर्जी के लिए शहद और दालचीनी के फायदे।

शहद और दालचीनी का मिश्रण एलर्जी की समस्या को दूर करने में लाभकारी होता है। आप इसके पेस्ट के मिश्रण को हल्के गर्म पानी में एलर्जी ठीक ना होने तक ले सकते हैं।

पेट दर्द में शहद और दालचीनी के फायदे

यदि आप को पेट दर्द की समस्या है। दालचीनी और शहद आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। 1 चम्मच शहद में 1/2 चम्मच दालचीनी के पाउडर के साथ हल्के गर्म पानी मैं सेवन करने से पेट का दर्द मैं जल्द आराम मिलता है।

हेयर लॉस मैं शहद और दालचीनी के फायदे

बाल झड़ने से रोकने के लिए शहद और दालचीनी का सेवन उपयोगी माना जाता है। 1 चम्मच शहद 1/2 चम्मच दालचीनी पाउडर के साथ एक गिलास गुनगुने पानी मैं सेवन करने से बाल झड़ने की समस्या दूर होती है।

पाइल्स में शहद और दालचीनी के फायदे

पाइल्स एक गंभीर बीमारी है जिस व्यक्ति को भी हो उसे पीड़ा का का सामना करना पड़ता है। ऐसे लोगों को दालचीनी के साथ शहद का सेवन करने से पाइल्स में आराम मिल सकता है। 1 चम्मच शहद एक 1/4 चम्मच दालचीनी पाउडर कुल मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से लाभ होता है।

पिंपल्स मैं साद और दालचीनी के फायदे

पिंपल की समस्या दूर करे शहद और दालचीनी का मिश्रण। आप दो चम्मच शहद एक चम्मच दालचीनी पाउडर को मिलाकर पेस्ट बना लें, इस पेस्ट को रात को सोने से पहले लगाएं और सुबह हल्के गुनगुने पानी से धो लें। इस मिश्रण का इस्तेमाल आप पिंपल खत्म होने तक कर सकते हैं। इस प्रयोग से  आपकी त्वचा में निखार आने के साथ-साथ पिंपल की समस्या भी दूर होती है।

दालचीनी और दूध के फायदे
दालचीनी और दूध के फायदे

4. दालचीनी और दूध के फायदे

हाई ब्लड प्रेशर में दूध और दालचीनी के फायदे।

हाय ब्लड प्रेशर की समस्या से जूझ रहे लोग दालचीनी वाले दूध का प्रयोग कर सकते हैं। एक चुटकी दालचीनी पाउडर को गाय के कच्चे दूध मैं डाल कर उबालें रात को सोने से पहले इस मिश्रण का सेवन करने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या दूर होती है। इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर की समस्या जड़ से खत्म करने के लिए अनुलोम-विलोम भी कर सकते हैं।

स्किन के लिए दूध और दालचीनी के फायदे।

ऐसे लोग जिनके चेहरे पर चमक चली गई है, या आंखों के नीचे काले घेरे और पिंपल की समस्या है। दालचीनी वाला दूध उनके लिए फायदेमंद हो सकता है। सप्ताह में तीन बार दालचीनी वाले दूध का सेवन करने से स्किन से जुड़ी समस्याएं खत्म होती है। साथ ही स्किन निखरती है, और चेहरे के दाग धब्बे पिंपल आदि की समस्या दूर होती है। इसका सेवन एक दिन छोड़कर एक दिन कर सकते हैं। यानी सप्ताह में 3 से 4 बार ही इसका सेवन करें।

अंडर वेट वालों के लिए दूध और दालचीनी के फायदे।

ऐसे लोग जो शारीरिक रूप से कमजोर हैं। शरीर में ताकत की कमी महसूस करते हैं। साथ ही अंडरवेट हैं। दालचीनी वाला दूध उनके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए आप दालचीनी वाले दूध के साथ अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं। इस प्रयोग से शारीरिक दुर्बलता खत्म होती है। इस प्रयोग के साथ अगर एक्सरसाइ करते है तो, बहुत ही फायदेमंद हो सकता है।

5. वात रोग में दूध और दालचीनी के फायदे

वात रोग में कई प्रकार की बीमारियां होती हैं जिसमें दालचीनी के दूध का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है इसमें कैल्शियम की कमी शरीर में रक्त की कमी फुर्ती की कमी जोड़ों के दर्द जोड़ों में ग्रीस का खत्म हो जाना आदि कई प्रकार की समस्या को दूर करने में दालचीनी वाला दूध फायदेमंद होता है। 

इन सभी उपायों में गाय का दूध का इस्तेमाल करना उत्तम होता है इसलिए गाय के दूध का ही सेवन करें।

6. दालचीनी की तासीर

दालचीनी की तासीर प्राकृतिक रूप से गर्म होती है। जिसे गरम मसालों में इस्तेमाल किया जाता है, साथी आयुर्वेद में कई उपचारों के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है।

7. दालचीनी कैसी होती है

दालचीनी दिखने में दो प्रकार की होती हैं हिंदी दोनों ही प्रकार की दालचीनी की इमेज हम नीचे दे रहे हैं जिसमें आप देख कर जान सकते हैं कि दालचीनी कैसी होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here